Class 12 Hindi Important Questions Answer – वितान भाग 2 All Chapters NCERT Solution

NCERT Class 12th Hindi वितान भाग 2   MCQ Question Answer for remember Story line in quick and score higher in board exam results. CCL Chapter helps you in it..  Class 12 Hindi all chapters notes, question answer and important questions are also available on our website. NCERT Solution for Class 12 Hindi all chapters MCQ of Vitan bhag 2 NCERT Solution for CBSE, HBSE, RBSE and Up Board and all other chapters of class 12 hindi gadhy bhaag NCERT solutions are available. Class 12 NCERT MCQ is best way to prepare Chapters for Exams.

Also Read:- Class 12 Hindi वितान भाग 2 NCERT Solution

NCERT Class 12 Hindi Vitan bhag 2 / वितान भाग 2 / all chapters Important Question answer / महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर Solution.

Class 12 Hindi all chapters Important Question Answer

पाठ 1 सिल्वर वेडिंग महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर

प्रश्न 1 यशोधर बाबू की कहानी को दिशा देने में किशनदा की क्या भूमिका रही है ?

उत्तर – यशोधर बाबू किशनदा को अपना आदर्श मानते हैं। यशोधर बाबू उनसे इतने अधिक प्रभावित हैं कि अपने परिवार के साथ सामंजस्य भी नहीं बिठा पाते हैं। छोटी से छोटी बात को लेकर परिवार के बीच तनाव रहता है। यशोधर बाबू किशनदा की ही बातें मानते हैं। यशोधर बाबू पुरानी परंपराओं से जुड़े हुए हैं जबकि पूरा परिवार आधुनिक समाज के हिसाब से चल रहा है।

प्रश्न 2 समय के साथ ढल सकने में यशोधर बाबू असफल कैसे होते हैं ?

उत्तर – यशोधर बाबू किशनदा से बहुत अधिक प्रभावित हैं। वे हर बात को किशनदा के नजरिए से देखते हैं। यशोधर  बाबू अपने काम के प्रति सचेत और समय के पाबंद हैं। यशोधर बाबू का पूरा परिवार आधुनिक ख्यालात का है जबकि यशोधर बाबू पुरानी संस्कृति और परंपरा में अटके हुए हैं। इसकी वजह से ही यशोधर बाबू समय के साथ ढल सपने में असफल हो जाते हैं।

प्रश्न 3 यशोधर बाबू ने आजीवन अपना घर क्यों नहीं बनाया ?
या
घर बनाने के विषय में यशोधर बाबू के दृष्टिकोण का उल्लेख कीजिए।

उत्तर – यशोधर बाबू किशनदा की बातों से बहुत अधिक प्रभावित थे। किशनदा का कहना था कि जब तक सरकारी नौकरी तब तक सरकारी क्वार्टर। यशोधर बाबू के बीवी बच्चों ने उनसे डीडीए फ्लैट के लिए पैसा भरने के लिए कहा लेकिन वे नहीं माने। यशोधर बाबू को किशनदा की यह बात ठीक लगती है कि मूर्ख लोग घर बनाते हैं और सयाने उन में रहते हैं। इसीलिए यशोधर बाबू ने आजीवन अपना घर नहीं बनाया।

प्रश्न 4 यशोधर बाबू को भूषण ने उपहार देते समय क्या कहा और उन्हें यह सब कैसा लगा ?

उत्तर – भूषण ने अपने पिता को उपहार देते हुए कहा ” इसे ले लीजिए। यह मैं आपके लिए लाया हूं। ऊनी ड्रेसिंग गाउन है। आप सवेरे जब दूध लेने जाते हैं अब्बा, फटा फुल ओवर पहन कर जाते हैं, जो बहुत बुरा लगता है। आप इसे पहन कर ही जाया कीजिए।” यशोधर बाबू को उसके बेटे भूषण द्वारा दिया गया उपहार देखकर उनकी आंखों में चमक सी आ गई परंतु उनको यह बात भी चुभ गई कि उनका बेटा यह कह रहा है कि आप सवेरे दूध लाते समय इसे पहन लिया करें, वह यह बात नहीं कहता कि दूध मैं ले आया करूंगा।

प्रश्न 5 किशनदा और यशोधर पंत की मित्रता की समीक्षा कीजिए ।
या
किशनदा ने यशोधर बाबू की सहायता किस प्रकार से की ?

उत्तर – किशनदा और यशोधर पंत अच्छे दोस्त थे। यशोधर पंत अल्मोड़ा से यहां दिल्ली सरकारी नौकरी की तलाश में आए थे। लेकिन उनकी उम्र कम थी। जब तक सही उम्र नहीं हुई तब तक यशोधर किशनदा के यहां पर रसोइया बन कर ही रहे। बाद में किशनदा ने यशोधर को नौकरी दिलवाई और उसके कार्य में उसका मार्गदर्शन किया। यशोधर बाबू किशनदा को अपना आदर्श समझते थे और उन्हीं की बातें माना करते थे।

प्रश्न 6 किशनदा का बुढ़ापा सुख से क्यों नहीं बीता ?

उत्तर – किशनदा ने कभी भी अपना घर नहीं बनाया। जब वह रिटायर हुआ तो 6 महीने के बाद उसको सरकारी क्वार्टर छोड़ना पड़ा। उसके बाद उसके किसी भी साथी ने उसका सामान अपने घर में रखने के लिए हां नहीं की। कुछ सालों तक वे राजेंद्र नगर में किराए पर रहे और उसके बाद गांव चले गए। जहां साल भर बाद उनकी मौत हो गई। उसकी मृत्यु का कारण किसी को भी नहीं पता था।

प्रश्न 7 किशनदा के व्यक्तित्व पर प्रकाश डालिए।

उत्तर – किशनदा एक मेहनती और संस्कारी व्यक्ति थे। वे पहाड़ी इलाके से आकर दिल्ली में नौकरी किया करते थे। उन्होंने अपनी पूरी जिंदगी में कभी भी विवाह नहीं किया। किशनदा पहाड़ों से आने वाले लोगों की मदद किया करते थे क्योंकि शुरुआत में किसी को भी रहने का ठिकाना नहीं मिलता था। किशनदा ने अपनी जिंदगी में कभी भी घर नहीं बनाया था। वे सरकारी क्वार्टर में रहते थे। रिटायर होने के बाद उसको कहीं पर भी आश्रय नहीं मिला। आखिरकार वे गांव लौट गए और वहीं पर अपने प्राण त्याग दिए।

प्रश्न 8 यशोधर पंत के स्वभाव को रेखांकित कीजिए।

उत्तर – यशोधर पंत बहुत ही इमानदार और मेहनती व्यक्ति हैं। वे कर्मचारियों को समय से पहले घर नहीं जाने देते हैं। लेकिन उनके साथ मनोरंजक बातें जरूर करते हैं। घर हमेशा 8:00 बजे ही पहुंचते हैं जबकि ऑफिस से 5:30 बजे छोड़ चुके होते हैं। घर में पत्नी और बच्चों के साथ उनके विचार नहीं मिलते इस वजह से वे मंदिर जाते हैं। यशोधर पंत पुराने विचारों वाले व्यक्ति हैं जबकि उनका बाकी परिवार आधुनिक खयालात का है। यशोधर पंत ने कभी अपना घर नहीं बनाया। वे सरकारी क्वार्टर में ही रह रहे हैं।

प्रश्न 9 यशोधर बाबू की वाहन से सम्बद्ध विचारधारा को स्पष्ट कीजिए।

उत्तर – यशोधर बाबू साइकिल से ऑफिस जाया करते हैं। उसके बच्चे ऐसा करने से उसे रोकते भी हैं और बोलते हैं कि आप स्कूटर पर जाया कीजिए। यशोधर बाबू को स्कूटर बिल्कुल भी पसंद नहीं है। उनको स्कूटर बिल्कुल बेकार सवारी मालूम पड़ती है। इसीलिए अब वे पैदल ऑफिस जाते हैं।

प्रश्न 10 उपहार में मिले यशोधर के ड्रेसिंग गाउन का वर्णन कीजिए।

उत्तर – यशोधर बाबू का बेटा अपने पिता की सिल्वर वेडिंग पर उनके लिए एक उपहार लेकर आया था। जिसके अंदर एक ड्रेसिंग गाउन था। यह ड्रेसिंग गाउन ऊनी कपड़े का बना हुआ था। यशोधर बाबू का बेटा भूषण इसे अपने पिता को देते हुए कहता है कि आप सवेरे दूध लेने जाते हैं अब्बा, फटा फुलोवर पहन कर जाते हैं। अब से इसे पहन कर जाया कीजिए।

प्रश्न 11 यशोधर बाबू के सिल्वर वैडिंग के विषय में विचार क्या थे ?

उत्तर – यशोधर बाबू को सिल्वर वेडिंग बिल्कुल भी पसंद नहीं है। उनको सिल्वर वेडिंग के दिन केक काटना एक बचकानी हरकत लगती है। सिल्वर वेडिंग के दिन यशोधर बाबू के घर पार्टी का आयोजन किया गया था लेकिन यशोधर बाबू जानबूझकर घर देरी से पहुंचे। यशोधर बाबू के ऑफिस में भी जब कर्मचारी खुश होकर यह कहता है ” मेनी हैप्पी रिटर्ंस ऑफ द डे सर! आज तो आपका सिल्वर वेडिंग है। शादी के 25 साल पूरे हो गए हैं। ” अब यशोधर बाबू उनको 10-10 के तीन नोट देकर चाय पार्टी देते हैं लेकिन स्वयं उसमें शामिल नहीं होते।

प्रश्न 12 यशोधर बाबू की बेटी की आधुनिकता का वर्णन कीजिए।

उत्तर – यशोधर बाबू की बेटी आधुनिक ख्यालात की है। जब भी उसकी शादी के लिए कोई बार आता है तो उसे कोई भी पसंद नहीं आता और वह सभी प्रस्तावित वरों को अस्वीकार कर देती हैं। जब भी यशोधर बाबू उसको ऐसा करने से मना कर दिया तो वह डॉक्टरी की पढ़ाई के लिए अमेरिका चले जाने की धमकी देने लगती है। यशोधर बाबू की बेटी जीन और बिना बाजू का टॉप पहनना पसंद करती है जबकि उसके पिता को यह बिल्कुल भी पसंद नहीं है।

प्रश्न 13 सिल्वर वैडिंग कहानी का प्रतिपाद्य स्पष्ट कीजिए।

उत्तर – सिल्वर वेडिंग कहानी में पुरानी संस्कृति और आधुनिक संस्कृति के बीच का अंतर दर्शाया गया है। एक तरफ जहां यशोधर बाबू पुरानी सोच के व्यक्ति हैं वही उसका बाकी परिवार आधुनिक के सोच रखता है। जिसकी वजह से यशोधर बाबू परिवार के साथ तालमेल नहीं बिठा पाते। इस कहानी में दर्शाया गया है कि आधुनिक पीडी मानवीय मूल्यों को ताक पर रख रही है जबकि पुरानी पीढ़ी के लोग अपनी संस्कृति को बचाने में लगे हैं।

प्रश्न 14 यशोधर बाबू की पत्नी समय के साथ ढल सकने में सफल कैसे होती है?

उत्तर –  यशोधर बाबू की पत्नी अपने मूल संस्कारों से आधुनिक नहीं थी। लेकिन उसके बच्चे आधुनिक विचारों के थे। उनकी मां हमेशा उनका साथ देती थी। जबकि यशोधर बाबू को यह सब बिल्कुल भी पसंद नहीं था। इसी वजह से यशोधर बाबू की पत्नी समय के साथ ढल सकने में सफल हो जाती है और आधुनिक विचारों वाली बन जाती है।

पाठ 2 महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर 

प्रश्न 1. स्वयं कविता रच लेने का आत्मविश्वास लेखक के मन में कैसे पैदा हुआ?

प्रश्न 1 श्री सौंदलगेकर के अध्यापन की किन्हीं दो विशेषताओं का उल्लेख कीजिए ।

उत्तर – श्री सौंदलगेकर मराठी के अध्यापक थे। वे कविताएं पढ़ाते थे और साथ ही कविताओं की रचना भी किया करते थे। उनके पास सुरीला गला और छंद की बढ़िया चाल थी। वे कविताएं गाने के साथ साथ अभिनय भी किया करते थे।

प्रश्न 2 ” पाठ में बचपन में लेखक के मन में पढ़ने के प्रति क्या विचार थे ?

उत्तर –  पाठ में लेखक आनंद यादव बचपन से ही पढ़ने के शौकीन था। वह स्कूल जाना पसंद करते था। खेत में काम करने की बजाए आनंदा को मास्टर की छड़ी के मार भी ज्यादा अच्छी लगती थी। जब उसके पिता ने उसका स्कूल छुड़वा दिया तो उसने दत्ता जी राव को कहकर अपने पिता से स्कूल जाने की हामी भरवाई।

प्रश्न 3 ” पाठ में खेत में काम करते समय लेखक का अकेलापन कैसे दूर हो गया था ?

उत्तर – लेखक अपने अकेलेपन में कविताओं को सूर, ताल, छंद और एक सही यदि गति के साथ गाया करता था। वह कविता गाते समय अभिनय भी किया करता था। इस प्रकाश लेखक का अकेलापन दूर हो गया।

प्रश्न 4 ” कहानी के आधार पर सिद्ध कीजिए कि आनन्दा एक जुझारू बालक है ?

उत्तर – जब लेखक के पिताजी ने लेख का स्कूल छुड़वा दिया और खेत में काम करने के लिए बाध्य किया तब आनंदा दत्ता जी राव के पास जाकर अपने पिता की शिकायत करता है। इसके बाद उसने अपने पिता से स्कूल जाने की हामी भरवाई। स्कूल में उसके कोई दोस्त नहीं है। सभी उसका मजाक उड़ाते हैं इसके बावजूद भी उसने स्कूल जाना नहीं छोड़ा। इन सब बातों से हमें पता चलता है कि आनंदा एक जुझारू बालक हैं।

प्रश्न 5 ” पाठ में कविता के प्रति लगाव के बाद अकेलेपन के बारे में लेखक की अवधारणा में क्या बदलाव हुआ ?

उत्तर – कविताओं के प्रति लगाव के बाद आनंदा अकेला रहना पसंद करने लगा। लेखक अपने अकेलेपन में कविताओं को सूर, ताल, छंद और एक सही यदि गति के साथ गाया करता था। वह कविता गाते समय अभिनय भी किया करता था। इस प्रकाश लेखक का अकेलापन दूर हो गया।

प्रश्न 6 मास्टर सौंदलगेकर की साहित्यिक चेतना को स्पष्ट कीजिए।
या
मास्टर सौंदलगेकर के काव्य-ज्ञान का विश्लेषण कीजिए।
या
मास्टर सौंदलगेकर के कविता प्रेम का विवेचन कीजिए।

उत्तर – मास्टर सौंदलगेकर कविताओं को गाते समय लय, सुर, ताल, यति, गति का पूरा ध्यान रखते थे। वे अपनी कविताएं कक्षा में सुनाया करते थे। वे कविताओं को सुनाते समय अभिनय भी किया करते थे। उनका गला सुरीला और उनके पास छंद की बढ़िया चाल थी।

प्रश्न 7 गुड़ के विषय में दादा के व्यापारिक ज्ञान पर प्रकाश डालिए।
या
आनन्दा के दादा का कोल्हू सारे गाँव में सबसे पहले क्यों चलता था ?

उत्तर चारों और कोल्हू चलने से बाजार में गुड़ की कीमत गिर जाती है। जिसके कारण गांव के कोल्हू में बनने वाले गुड़ की कीमत घट जाती है। दादा की समझ से गुड़ ज्यादा निकलने की अपेक्षा भाव ज्यादा मिलना चाहिए। इसलिए वे पूरे गांव में अपना कोल्हू सबसे पहले शुरू कर दिया करते थे।

प्रश्न 8 आनंदा के काव्य-प्रेम का वर्णन कीजिए।

उत्तर – आनंदा को कविताएं गाना और उन पर अभिनय करना बहुत पसंद था। वह मास्टर सौंदलगेकर की कविताओं को बहुत ही ध्यान से सुना करते था। वह बहुत ही ध्यान से मास्टर जी के हाव भाव, चाल, गति और रस का आनंद लेता था। फिर खेतों में जाकर उसी तरीके से गाया करता था।

प्रश्न 9 आनंदा के दादा की क्रूरता का विश्लेषण कीजिए।
या
दादा ने आनंदा के साथ कैसा व्यवहार किया ?

उत्तर – आनंदा के दादा उसे स्कूल नहीं भेजना चाहते थे। वे खुद कोई भी काम ना करके खेत का सारा काम आनंदा से करवाते थे। आनंदा के दादा पूरा दिन रखमाबाई के पास गुजार देता था और बेचारे आनंदा को मजबूरन खेत का काम करना पड़ता था।

प्रश्न 10 मंत्री नामक मास्टर के व्यक्तित्व का वर्णन कीजिए।

उत्तर – मंत्री आनंदा के पाठशाला में गणित का अध्यापक था। वह कभी भी छड़ी का प्रयोग नहीं करता बल्कि कमर में घुसा लगाता था।

प्रश्न 11 वसंत पाटील के व्यक्तित्व का विश्लेषण कीजिए।
या
वसंत पाटील के विद्यार्थी जीवन का विवेचन कीजिए।

उत्तर – वसंत पाटिल नाम का लड़का शरीर से दुबला पतला, किंतु बहुत होशियार था। मास्टर ने उसे कक्षा मॉनिटर बना दिया था और हमेशा पहली बेंच पर बैठा करता था। वह गणित में बहुत होशियार था। बहुत बार वह दूसरे विद्यार्थियों के सवालों को भी जांचा करता था।

पाठ 3 अतीत में दबे पांव महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर

प्रश्न 1 मोहनजोदड़ो के अजायबघर में क्या-क्या रखा हुआ था ?

उत्तर – मोहनजोदड़ो के अजायबघर में काला पड़ गया गेहूं, तांबे और कांसे के बर्तन, मुहरे, मृद भांड, तांबे के आईने, दो पाटन की चक्की, मिट्टी की बैलगाड़ी, रंग-बिरंगे पत्थर के हार और सोने के कंगन रखे हुए हैं।

प्रश्न 2 मोहनजोदड़ो के अजायबघर का वर्णन कीजिए।

उत्तर – मोहनजोदड़ो के अजायब घर में ज्यादा चीजें हमें देखने को नहीं मिलती हैं। मोहनजोदड़ो का अजायबघर एक छोटी सी इमारत के रूप में हैं जिसके अंदर काला पड़ गया गेहूं, तांबे और कांसे के बर्तन, मुहरे, मृद भांड, तांबे के आईने, दो पाटन की चक्की, मिट्टी की बैलगाड़ी, रंग-बिरंगे पत्थर के हार और सोने के कंगन आदि रखे हुए हैं।

प्रश्न 3 मोहनजोदड़ो में जल निकासी की व्यवस्था किस प्रकार की गई थी ?

उत्तर – मोहनजोदड़ो में जल निकासी की व्यवस्था का एक बेहतरीन नमूना देखने को मिलता है जिसमें सड़क के दोनों तरफ ढकी हुई नालियां बनाई गई थी। घरों के अंदर से गंदा पानी नालियों से बाहर होती तक आता था और उसके बाद बड़े नाले में जाता था। कहीं-कहीं पर नालियां बिना ढकी हुई थी।

प्रश्न 4 वर्तमान में सिंधु सभ्यता को किस रूप में देखा और महसूस किया जा सकता है ?

उत्तर – सिंधु घाटी सभ्यता अब तक की खोजी गई सबसे प्राचीन सभ्यता है। जिसके अंदर हमें घरों के निर्माण का एक बेहतरीन नमूना देखने को मिलता है। इसकी टूटी हुई दीवारें, खंडहर बन चुके घर और रास्ते इसका सबूत है। जिन को देखा और महसूस किया जा सकता है।

प्रश्न 5 ‘अतीत में दबे पाँव’ पाठ के आधार पर बौद्ध स्तूप की संरचना का वर्णन कीजिए।
या
मोहनजोदड़ो के बौद्ध स्तूप का वर्णन कीजिए ।

उत्तर – मोहनजोदड़ो के सबसे बड़े और ऊंचे चबूतरे पर बौद्ध स्तूप का निर्माण किया गया था। इस बोध स्तूप के अंदर भिक्षु के कमरे हैं। इसकी संरचना मिस्र और मेसोपोटामिया की सभ्यता के समय की मानी जाती है।

प्रश्न 6 रईसों की बस्ती का विश्लेषण कीजिए ।

उत्तर – रईसों की बस्ती में बड़े-बड़े घर, चौड़ी सड़कें और ज्यादा कुएं देखने को मिलते हैं। यह बस्ती बौद्ध स्तूप के ठीक सामने बनी हुई है। यहां पर गरीबों के कोई भी घर देखने को नहीं मिलते हैं।

प्रश्न 7 सिन्धु घाटी सभ्यता की फसलों पर प्रकाश डालिए।

उत्तर – सिंधु घाटी सभ्यता में कपास गेहूं, जौ, सरसों, चना, ज्वार, बाजरा, रागी, खजूर, खरबूजे और अंगूर की खेती की जाती थी। यह सब गधा खास तौर पर रबी की फसलें हुआ करती थी।

प्रश्न 8 मोहनजोदड़ो के नगर नियोजन का विवेचन कीजिए।

उत्तर – मोहनजोदड़ो शहर में नगर नियोजन का एक बेहतरीन नमूना देखने को मिलता है। यहां की ज्यादातर सड़कें सीधी हैं या फिर आड़ी हैं। आधुनिक समय में इसे ग्रिड प्लान कहा जाता है। मोहनजोदड़ो शहर आधुनिक सेक्टर शहरों के नियोजन से मेल खाते हैं।

प्रश्न 9 वास्तुकला की दृष्टि से ‘महाकुंड’ का वर्णन कीजिए ।
या
महाकुंड की संरचना का वर्णन कीजिए ।

उत्तर – महाकुंड 40 फुट लंबा, 25 फुट चौड़ा और 7 फुट गहरा बना हुआ था। इसमें उत्तर और दक्षिण दिशा की ओर से सीढ़ियां उतरती हैं। उत्तर दिशा में 2 पंक्तियों में 8 स्नानागार हैं और इनमें से किसी का भी दरवाजा एक दूसरे के सामने नहीं खुलता। महाकुंड पक्की ईंटों का बना हुआ है और पानी निकालने की भी एक अच्छी व्यवस्था की गई है।

प्रश्न 10 मोहनजोदड़ो के अजायबघर में हथियारों के न होने से क्या संकेत मिलता है?

उत्तर – मोहनजोदड़ो की खुदाई के दौरान बहुत सारे अवशेष प्राप्त हुए परंतु उनमें एक भी हथियार नहीं मिला। इससे यह अंदाजा लगाया जाता है कि सिंधु घाटी सभ्यता का समाज अनुशासित और मजबूत था। उस समय का समाज धर्म या राजनीति के द्वारा नहीं चलता था।

प्रश्न 11 ‘अतीत में दबे पाँव’ पाठ के कथ्य पर प्रकाश डालिए।

उत्तर – सिंधु घाटी की खुदाई के दौरान बहुत सारे शहरों का पता चला। इन शहरों में बनाए गए घर, गढ़, चौड़ी सड़कें और नालियां देखने को मिलती हैं। कुछ शहर अपने स्नानागार के लिए प्रसिद्ध थे तो कुछ अपनी कलाकृति के लिए। सिंधु घाटी की सभ्यता आम प्रयोग में होने वाली ज्यादातर चीजों की खेती किया करते थे। पूरा शहर एक खास तरीके से नियोजित था। आज ज्यादातर चीजें  अजायबघरों में देखने को मिलती है लेकिन शहर अभी भी वहीं पर बसा हुआ है। जो आज टूटे-फूटे खंडहर के रूप में देखा जा सकता है।

प्रश्न 12 मोहनजोदड़ो कहाँ बसा हुआ था ? इसे विशेष प्रकार से क्यों बसाया गया था ?

उत्तर – मोहन जोदड़ो सिंधु घाटी सभ्यता के एक टीले पर बसा हुआ था। इस टीले को जमीनी सतह से ईटों की मदद से ऊंचा उठाकर बनाया गया था। इसे ऊंचा इसलिए बनाया गया होगा ताकि सिंधु नदी के जल की आपदा से बचा जा सके।

प्रश्न 13 ‘कॉलेज ऑफ प्रीस्टस’ किसे कहा गया है ? इसका निर्माण क्यों हुआ होगा ?

उत्तर – महा कुंड के उत्तर पर्व दिशा में एक इमारत के अवशेष मिले हैं जिसमें एक बहुत बड़ा हाॅल है। हाॅल के साथ अनेक छोटे छोटे कमरे हैं। माना जाता है कि धार्मिक अनुष्ठानों में ज्ञानशाला इसी के साथ बनी हुई थी। इसीलिए इसे ‘कॉलेज ऑफ प्रीस्टस’ कहते हैं।

पाठ 4 डायरी के पन्ने महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर

प्रश्न 1 ऐन ने अपने थैले में क्या-क्या भरा और क्यों ?

उत्तर – ऐन अपने थैले में अपनी डायरी, रुमाल, स्कूल की किताबें, कलर, कंघी और पुरानी चिट्ठियां भरी थी। वह कपड़ों की तुलना में यादों को अधिक महत्व देना चाहते थी।

प्रश्न 2 अज्ञातवास के दौरान टर्की से सम्बंधित वह कौन-सी अफवाह थी जिसे सुनकर ऐन के परिवार का उत्साह बढ़ गया था ?

उत्तर – अज्ञातवास के दौरान टर्की के केंद्रीय मंत्री ने कहा कि टर्की जल्दी ही तटस्थता छोड़ देगा और इंग्लैंड के पक्ष में हो जाएगा। इस बात को सुनकर ऐन के परिवार का उत्साह बढ़ गया।

प्रश्न 3 ऐन की अज्ञातवास के समय क्या-क्या रुचियाँ थीं ?
या
ऐन फ्रैंक के फिल्मी प्रेम पर प्रकाश डालिए।
या
सिनेमा प्रेम को लेकर ऐन फ्रैंक के विचारों का विवेचन कीजिए ।

उत्तर – ऐन को पत्रिकाओं से फिल्मी कलाकारों के चित्र इकट्ठा करने का जुनून सवार था। वह फिल्मों के बारे में जानकारी इकट्ठा करती थी। उनकी समीक्षा करती थी। वह फिल्मी अभिनेत्रियों की तरह अपने बाल सजाया करती थी। थोड़ी देर के बाद में वह फिर अपने असली रूप में आ जाती थी।

प्रश्न 4 जॉन और मिस्टर क्लीमेन के व्यवहार का परिचय दीजिए।

उत्तर – जॉन और मिस्टर कलीमेन को अज्ञातवास में छुपे या भूमिगत हो गए लोगों के बारे में बात करना अच्छा लगता है। वे उन सब की तकलीफों से हमदर्दी रखते हैं जो गिरफ्तार हो गए हैं और उन लोगों की खुशी में खुश है जो कैद से आजाद कर दिए गए हैं।

प्रश्न 5 मिस्टर डसेल के व्यक्तित्व का चित्रण कीजिए।

उत्तर – मिस्टर डसेल बच्चों के साथ खेलते थे और उन्हें खूब प्यार करते थे। मैं अनुशासन पर लंबे लंबे भाषण दिया करते थे। यह भाषण उबाऊ और नींद लाने वाले होते थे। उनको अनुशासन पर भाषण देना अच्छा लगता था।

प्रश्न 6 ऐन फ्रैंक के नारी विषयक विचारों का विवेचन कीजिए।
या
ऐन फ्रँक के नारी सम्बद्ध विचारों पर प्रकाश डालिए।
या
ऐन के स्त्री-पुरुष अधिकारों पर क्या विचार थे ?

उत्तर – उसका मानना था कि औरतें संतान को जन्म देती हैं और दर्द झेलती है। कोई भी सैनिक युद्ध में इतना दर्द नहीं खेलता जितनी पीड़ा किसी भी महिलाओं को प्रसव के समय झेलनी पड़ती है। आधुनिक महिलाएं पूरी तरह स्वतंत्र होने का हक पाना चाहती हैं। महिलाओं को पूरा सम्मान दिया जाना चाहिए। उन्हें भी सैनिक बनने का दर्जा मिलना चाहिए। पुरुष शुरुआती दौर से ही औरतों पर शासन करने लगे थे, जो ठीक नहीं था।

प्रश्न 7 हजार गिल्डर के नोट अवैध मुद्रा घोषित करने से उत्पन्न कठिनाइयों का विवेचन कीजिए।

उत्तर – हजार गिल्डर के नोट अवैध मुद्रा घोषित होने से उन लोगों को बड़ा झटका लगा जो भूमिगत हो गए थे। नोट बदलवाने के लिए बाहर निकलना था जो एक भारी मुसीबत थी। इसके अलावा नोट बदलने के लिए उनको सबूत देना पड़ता था कि उसके पास यह कहां से आया। जिसका हिसाब किताब देना क्षमता के बाहर था।

प्रश्न 8 जॉन और मिस्टर क्लीमेन ने अज्ञातवास में भूमिगत व्यक्तियों की सहायता किस प्रकार की ?(doubt)

उत्तर – जॉन और मिस्टर कलीमेन बताती हैं कि हिल्वरसम में नए राशन कार्ड जारी किए गए जिससे अज्ञातवास में रह रहे लोग राशन की सुविधा प्राप्त कर सकें। अगर राशन कार्ड ना हो तो एक कार्ड के लिए 60 गिल्डर देने पड़ते हैं।

प्रश्न 9 मिसेज वान दान की प्रकृति का विश्लेषण कीजिए।

उत्तर – मिसेज वान दान भी हमारे साथ अज्ञातवास बिता रही थी। उन्हें अपने बचपन की कहानियां सुनाने में बहुत मजा आता है। जिनको बाकी सब हजार बार सुन चुके हैं।

प्रश्न 10 कैबिनेट मंत्री मिस्टर बोल्के स्टीन ने क्या घोषित किया कि जिससे ऐन को खुशी मिली थी ?

उत्तर – कैबिनेट मंत्री मिस्टर बोल्के स्टीन ने कहा कि जब दूध खत्म हो जाएगा तब युद्ध का वर्णन करने वाली डायरियों और पत्रों को इकट्ठा किया जाएगा। ऐन भी एक डायरी लिख रही थी इसीलिए वह खुश हो गई।

प्रश्न 11 अज्ञातवास के दौरान ऐन और वानदान परिवार बिजली क्यों नहीं जलाते थे?

उत्तर – अज्ञातवास के दौरान उनके इलाके की बिजली काट दी गई थी। कभी कभी थोड़ी बहुत बिजली आती थी तो उसमें भी वे बत्तियां तक नहीं जला सकते थे क्योंकि अगर वह ऐसा करते तो ए० एस० एस० वाले उन्हें पकड़कर शिविरों में डाल देते। जहां पर जिन्दगी बहुत मुश्किल है।

Leave a Comment

error: cclchapter.com