सुभाषितानि Class 7 संस्कृत Chapter 1 शब्दार्थ – रुचिरा

NCERT Solution of Class 7 Sanskrit रुचिरा सुभाषितानि शब्दार्थ for Various Board Students such as CBSE, HBSE, Mp Board,  Up Board, RBSE and Some other state Boards. Class 7 Sanskrit all Chapters NCERT Solution with शब्दार्थ, व्याख्या, Translation in Hindi and English, अभ्यास के प्रश्न उत्तर and important Question answer ncert solution.

Also Read: = Class 7 Sanskrit रुचिरा NCERT Solution

NCERT Solution of Class 7th Sanskrit Ruchira /  रुचिरा  Chapter 1 सुभाषितानि / Subhashitani Word meaning / शब्दार्थ Solution.

सुभाषितानि Class 7 Sanskrit Chapter 1 शब्दार्थ

  1. पृथिव्यां – पृथ्वी पर।
  2. त्रीणि – तीन।
  3. रत्नानि – रत्न है।
  4. जलमन्नं – जल और अनाज।
  5. सुभाषितम् – सुंदर कथन/ अच्छी बातें।
  6. मूढै: – मूर्खों के द्वारा।
  7. पाषाणखण्डेषु – पत्थर के टुकड़ों में।
  8. रत्नसंज्ञा – रत्नों का नाम।
  9. विधीयते – किया गया है / समझते हैं।
  10. सत्येन – सत्य के द्वारा।
  11. धार्यते – धारण करती है।
  12. पृथ्वी – पृथ्वी। ‌‌
  13. सत्येन – सत्य से।
  14. तपते – तपता है।
  15. रविः – सूर्य।
  16. सत्येन – सत्य से।
  17. वाति – बहती है।
  18. वायुश्च – और हवा।
  19. सर्वं – सब कुछ।
  20. सत्ये – सत्य में।
  21. प्रतिष्ठितम् – निहित है।
  22. दाने – दान में।
  23. तपसि – तपस्या में।
  24. शौर्ये – वीरता में।
  25. च – और।
  26. विज्ञाने – विज्ञान में।
  27. विनये – विनम्रता में।
  28. नये – नीति में।
  29. विस्मयो – आश्चर्य।
  30. न – नहीं।
  31. हि – निश्चित रूप से।
  32. कर्त्तव्यो – करना चाहिए।
  33. बहुरत्ना – अनेक रत्न।
  34. वसुन्धरा – धरती/ पृथ्वी।
  35. सद्भिरेव – सज्जनों के ही।
  36. सहासीत – साथ बैठना चाहिए।
  37. सद्भिः – सज्जनों के।
  38. कुर्वीत – करना चाहिए।
  39. सङ्गतिम् – साथ / संगति।
  40. सद्भिर्विवादं – सज्जनों के साथ ही तर्क वितर्क।
  41. मैत्रीं – मित्रता।
  42. च – और।
  43. नासद्भिः – दुर्जनों के।
  44. किञ्चिदाचरेत् – कुछ भी व्यवहार नहीं करना चाहिए।
  45. धनधान्यप्रयोगेषु – धन-धान्य के प्रयोग में।
  46. विद्यायाः – विद्या के।
  47. संग्रहेषु – ग्रहण करने में।
  48. च – और।
  49. आहारे – भोजन में।
  50. व्यवहारे – व्यवहार में।
  51. च – और।
  52. त्यक्तलज्जः – संकोच न करने वाला।
  53. सुखी – सुखी।
  54. भवेत् – रहता है।
  55. क्षमावशीकृतिर्लोके – इस संसार में क्षमा करना सबसे बड़ा वशीकरण है।
  56. क्षमया – क्षमा से।
  57. किं – क्या।
  58. न – नहीं।
  59. साध्यते – साधा जा सकता/ किया जा सकता।
  60. शान्तिखड्गः – शांति रूपी तलवार।
  61. करे – हाथ में।
  62. यस्य – जिसके।
  63. किं – क्या।
  64. करिष्यति – करेगा।
  65. दुर्जनः – दुष्ट व्यक्ति।

Leave a Comment

error: cclchapter.com