राम लक्ष्मण परशुराम संवाद -तुलसीदास लेखक जीवन परिचय Class 10 Hindi – क्षितिज भाग 2

NCERT Class 10 Hindi Chapter 2 Ram Lakshman Parshuram Samvad -Tulsidas Lekhak Jivan Parichay  ( तुलसीदास लेखक जीवन परिचय )of Kshitij Bhag 2 / क्षितिज भाग 2. Here We Provides Class 1 to 12 all Subjects NCERT Solution with Notes, Question Answer, HBSE Important Questions, MCQ and old Question Papers for Students.

Also Read :- Class 10 Hindi क्षितिज भाग 2 NCERT Solution

  1. Also Read – Class 10 Hindi क्षितिज भाग 2 NCERT Solution in Videos
  2. Also Read – Class 10 Hindi कृतिका भाग 2 NCERT Solution in Videos

NCERT Solution of Class 10 Hindi क्षितिज भाग 2 Kavita Ram Lakshman Parshuram Samvad Lekhak  Tulsidas / राम लक्ष्मण परशुराम संवाद – तुलसीदास लेखक जीवन परिचय / Lekhak Jivan Parichay for Exams.

राम लक्ष्मण परशुराम संवाद – तुलसीदास लेखक जीवन परिचय


सामान्य जीवन परिचय
जन्म – 1532 ई० में।
स्थान – एक मान्यता के अनुसार उनका जन्म यूपी के बांदा जिले के राजापुर गांव में हुआ और दूसरी मान्यता के अनुसार सोरो, एटा जिले में।
माता -पिता – माता हुलसी देवी, पिता पंडित आत्माराम।
बचपन – तुलसी का बचपन बहुत संघर्षपूर्ण था जीवन के प्रारंभिक वर्षों में ही माता-पिता से उनका बिछोह हो गया। तुलसीदास जी राम भगत थे।
गुरु – नरहरीदास।
मृत्यु – 1623 ईस्वी में काशी में।


साहित्यिक रचनाएं – तुलसीदास जी ने अनेक रचनाएं की उनमें से महत्वपूर्ण इस प्रकार है –
रामचरितमानस, कवितावली, गीतावली, दोहावली, कृष्ण गीतावली और विनयपत्रिका।


साहित्यिक विशेषताएं – राम भक्ति परंपरा में तुलसी अतुलनीय है। उनके राम मानवीय मर्यादाओं और आदर्शों के प्रतीक हैं जिनके माध्यम से तुलसी ने नीति, स्नेह, शील, विनय, त्याग जैसे उदात्त आदर्शों को प्रतिष्ठित किया। तुलसीदास ने माया की निंदा की है और जीव को प्रभु भक्ति में लीन होने का संदेश दिया है।


भाषा शैली – अवधी और ब्रज दोनों भाषाओं पर तुलसीदास जी का समान अधिकार था। रामचरितमानस अवधी भाषा में लिखी गई है और इसमें चौपाई छंद का प्रयोग हुआ है। कवितावली ब्रज भाषा में लिखी गई है और इसमें सवैया और कवित्त छंदों का प्रयोग हुआ है। तुलसीदास जी की रचनाओं में प्रबंध और मुक्तक दोनों प्रकार के काव्यों का उत्कृष्ट रूप है।


Leave a Comment

error: cclchapter.com