आलो-आँधारि Class 11 Hindi Important Questions – वितान भाग 1 NCERT Solution

NCERT Class 11 Hindi Chapter 1 Vitan Bhag 1 Aalo Andhari Important Question for Frequently asked in various Boards like CBSE, HBSE, Mp Board, Up Board, RBSE and Some other state Board where NCERT is Followed.

Also Read : Class 11 Hindi Aroh Bhag 1 important Question

Also Read : Class 11 Hindi Vitan Bhag 1 NCERT Solution

Class 11 Hindi Important Questions and Answer of आलो-आँधारि / Aalo Andhari Vitan Bhag 1 NCERT Solution

पाठ 3 आलो-आँधारि महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर

प्रश्न 1. ‘आलो-आँधारि’ पाठ का उद्देश्य स्पष्ट कीजिए।

उत्तर – ‘आलो-आँधारि’ पाठ के माध्यम से लेखिका ने स्पष्ट किया है कि यदि किसी को थोड़ा-सा सहारा और उचित मार्गदर्शन मिल जाता है तो वह विपरीत परिस्थितियों में भी अपना और अपने परिवार का भविष्य उज्ज्वल बना लेता है। इस पाठ की नायिका बेबी एक घरेलू नौकरानी है। वह पति से अलग रहती है। उसके बच्चे उसके साथ है। इनका पालन-पोषण करने के लिए वह लोगों के घर में काम करती है। जहाँ वह काम करती थी वहाँ से काम छूट जाने पर उसे सुनील की सहायता से तातुश के घर काम मिल जाता है। तातुश उसकी बहुत सहायता करते हैं। उसे बच्चों के साथ रहने के लिए अपनी छत पर कमरा दे देते हैं। उसके बच्चों को स्कूल में प्रवेश दिला देते हैं। उसे लिखने-पढ़ने के लिए प्रेरित करते हैं। तातुश के घर रहते हुए उसके बच्चों का भविष्य संवर जाता है और वह एक लेखिका बन जाती है। उसकी रचना बंगाली पत्रिका में प्रकाशित हो जाती है। इस प्रकार एक भले आदमी का सहारा और प्रेरणा उसके जीवन की दिशा ही बदल देते हैं।

प्रश्न 2. तातुश को कैसे पता चला कि बेबी ने घर बदल लिया है ?

उत्तर – तातुश को सुनील से पता चला था कि बेबी ने घर बदल लिया है। सुनील बेबी से मिलने उसके पुराने घर गया तो वहाँ से उसे पता चला कि बेबी ने घर बदल लिया है। तातुश जब सुबह दूध लेने गए थे तो उन्हें सुनील मिला था। सुनील ने उनसे पूछा था कि क्या बेबी अब उनके घर काम नहीं करती ? तातुश के यह पूछने पर कि वह ऐसा क्यों सोच रहा है तो उसने बताया कि बेबी अब वहाँ नहीं रहती जहाँ पहले रहती थी तो उसने सोचा कि शायद बेबी अब उनके घर भी काम नहीं करती।

प्रश्न 3. बेबी का जब घर तोड़ दिया गया तो उसकी क्या दशा हुई ?

उत्तर – टूटे हुए घर और बिखरे हुए घरेलू सामान को देख कर बेबी रो पड़ी। उसे रोता देख कर उसके बच्चे भी उत्तर रोने लगे। बेबी के दो-दो भाई पास में ही रहते थे परंतु उसकी सहायता करने कोई भी नहीं आया। वह सोचने लगी कि न जाने उसके भाग्य में और कितना दु:ख भोगना लिखा है। तभी पास में रहने वाले भोलादा ने आकर उसे सांत्वना दी। बिखरा हुआ सामान एकत्र किया और उसी खुली, गंदी जगह में ओस में भीगते हुई उन्होंने रात गुज़ारी।

प्रश्न 4. बेबी को तातुश के घर रहने के लिए स्थान कैसे मिला ?

उत्तर – अगले दिन सुबह जब बेबी तातुश के घर पहुँची तो वे अख़बार पढ़ रहे थे। उन्होंने बेबी की ओर देख कर पूछा कि आज तुम्हारा मुँह सूखा-सखा-सा क्यों है ? बेबी ने उन्हें बताया कि कैसे बुलडोज़र ने उन लोगों के घर तोड दिए है और उसने बच्चों के साथ सारी रात खुले में ओस में बिताई है। उसने उन्हें भोलादा के बारे में भी बताया जो उसके साथ आया था और बाहर खड़ा था। तातुश ने उससे बाहर जाकर बात की और अंदर आकर बेबी को बच्चों सहित उनके घर आने के लिए कहा और उसके लिए छत पर एक कमरा खाली कर दिया।

प्रश्न 5. बेबी को अपनी माता की मृत्यु का समाचार कैसे मिला ?

उत्तर – एक दिन बेबी से मिलने उसके पिता आए। उनसे इधर-उधर की बातते करते हुए उसने उनसे मां के बारे में पूछा तो वे उसकी ओर देखते रह गए शायद यह सोच कर कि कहीं वह रोने-धोने न लग जाए। तब उन्होंने उसे बताया कि उसकी माँ तो छह-सात महीने पहले ही दुनिया छोड़ गई है क्या उसे उसके भाइयों ने नहीं बताया था ? वह तो वहाँ गया था। कुछ क्षण तो बेबी चुप रही फिर सिसक-सिसक कर रोने लगी। वह सोच रही थी कि उसके भाई भावज पास ही रहते हैं पर किसी ने भी उसे बताया नहीं।

प्रश्न 6. अर्जुनदा के मित्रों के आने का बेबी पर क्या प्रभाव पड़ा ?

उत्तर – अर्जुनदा के दो मित्रो के वहाँ आकर रहने से बेबी का काम बढ़ गया था, परंतु उन लोगों का व्यवहार इतना अच्छा था कि उसे उनका काम करने में कोई कठिनाई नहीं होती थी ये लोग उसके साथ अपनों जैसा व्यवहार करते थे तथा उसके बच्चों का ख्याल रखते थे। वे उसे बच्चों की पढ़ाई-लिखाई के संबंध में अच्छी बातें बताते थे।

प्रश्न 7. ‘आलो आँधारि’ कहानी में निहित संदेश स्पष्ट कीजिए।

उत्तर – ‘आलो आँधारि’ कहानी के माध्यम से लेखिका यह संदेश दे रही है कि यदि मनुष्य में कुछ बनने की इच्छा हो तो वह कुछ भी कर सकता है। इस पाठ की नायिका बेबी एक घरेलू काम-काज करने वाली नौकरानी अपनी मेहनत और दृढ़ इच्छा शक्ति के बल पर एक अच्छी लेखिका बन जाती है तथा पति द्वारा कोई आर्थिक सहायता नहीं मिलने पर भी अपने बच्चों का अच्छी प्रकार से पालन पोषण करते हुए उन्हें अच्छी शिक्षा दिलवाती है।

Leave a Comment

error: cclchapter.com