HBSE Class 12 नैतिक शिक्षा Chapter 17 हेमचंद्र विक्रमादित्य Question Answer Solution

Class 12 Hindi Naitik Siksha BSEH Solution for Chapter 17 हेमचंद्र विक्रमादित्य Question Answer for Haryana board. CCL Chapter Provide Class 1th to 12th all Subjects Solution With Notes, Question Answer, Summary and Important Questions. Class 12 Hindi mcq, summary, Important Question Answer, Textual Question Answer, Word meaning, Vyakhya are available of नैतिक शिक्षा Book for HBSE.

Also Read – HBSE Class 12 नैतिक शिक्षा Solution

Also Read – HBSE Class 12 नैतिक शिक्षा Solution in Videos

HBSE Class 12 Naitik Siksha Chapter 17 हेमचंद्र विक्रमादित्य / Hemchandra vikramaditya Question Answer for Haryana Board of नैतिक शिक्षा Class 12th Book Solution.

हेमचंद्र विक्रमादित्य Class 12 Naitik Siksha Chapter 17 Question Answer


ज्ञानात्मक प्रश्न


प्रश्न 1. हेमू का जन्म कब और कहाँ हुआ था ?

उत्तर – हेमू का जन्म सम्वत् 1556 में अलवर के समीप माछेरी गाँव में एक समृद्ध परिवार में हुआ था।


प्रश्न 2. इनके पिता का क्या नाम था ?

उत्तर – रायपूरणदास


प्रश्न 3. हेमू का परिवार अलवर से कहाँ आकर बसा ?

उत्तर – रेवाड़ी के कुतुबपुर में


प्रश्न 4. शेरशाह सूरी की मृत्यु के बाद कौन राजगद्दी पर बैठा ?

उत्तर – इस्लामशाह (सलीम खी) सूरी


प्रश्न 5. इस्लाम शाह ने हेमू को कहाँ का दायित्व सौंपा ?

उत्तर – इस्लाम शाह ने हेमू को 6000 सवारों की मुख्तियारी दी और अमीर का खिताब दिया।


प्रश्न 6. हेमू किस की मृत्यु के बाद शाही तख्त पर बैठा ?

उत्तर – आदिलशाह


भावात्मक प्रश्न


प्रश्न 1. हेमू ने आदिलशाह के राज्य की सुरक्षा किन-किन विद्रोहियों से की ?

उत्तर – हेमू ने इब्राहिम खाँ मुहम्मद खाँ ताज करांनी, फखरवान नूरानी आदि अनेक अफगान विद्रोहियों की बगावत को कुचल कर आदिलशाह के राज्य की सुरक्षा की।


प्रश्न 2. हेमू को आदिलशाह द्वारा बंगाल भेजे जाने पर किसने उसकी गैरहाजिरी में दिल्ली तथा आगरा पर आक्रमण किया और उसका क्या परिणाम हुआ ?

उत्तर – हेमू की अनुपस्थिति का लाभ उठाकर हुमायूँ की मुगल सेना ने दिल्ली व आगरा पर आक्रमण कर दिया और अधिकार जमा लिया।


प्रश्न 3. हेमू को ‘विक्रमादित्य’ की उपाधि से कब नवाजा गया ?

उत्तर – आदिलशाह ने हेमू को दिल्ली का राजसिंहासन सौंप दिया तथा उन्हें विक्रमादित्य की उपाधि से भी नवाजा।


Leave a Comment

error: cclchapter.com