कार्यालयी लेखन और प्रक्रिया Class 11 Hindi Abhivyakti Aur Madhyam Question Answer

Class 11 and 12 Hindi Abhivyakti Aur Madhyam NCERT Book Chapter Karyalayi Lekhan Aur Prakriya / कार्यालयी लेखन और प्रक्रिया Question Answer with PDF File download for CBSE and Other State Boards where NCERT Book is Followed.

Also Read : – Class 11 अभिव्यक्ति और माध्यम NCERT Solution

Class 11 Hindi Abhivyakti Aur Madhyam Question Answer

प्रश्न 1. नीचे कुछ स्थितियाँ दी गई हैं। इनमें आप पत्राचार के किस रूप का प्रयोग करेंगे ? लिखिए —

(क) किसी सरकारी-पत्र की कार्रवाई के रूप में फ़ाइल शुरू करके विषय का निपटान करना।
(ख) विचाराधीन मामलों को निपटाने के लिए लिखित सुझाव देना।
(ग) जब सरकार को जन-सामान्य तक कोई सूचना पहुँचानी हो।
(घ) किसी विभाग को कोई सूचना अपने विभाग के कर्मचारियों, अधिकारियों को देनी हो।
(ङ) विभाग द्वारा श्रीमती रूपाली को अनुप्रयुक्त भाषा विज्ञान का डिप्लोमा करने संबंधी अनुमति प्रदान करना।
(च) मंत्रालय द्वारा श्रीमती सुलेखा को शिक्षा-शिक्षण कार्यक्रम में शामिल होने संबंधी सूचना देना।
(छ) किसी कार्य का अनुपालन न होने की स्थिति में उसके बारे में पुनः स्मरण कराना।
(ज) अपने समकक्ष अधिकारी से किसी संदर्भ में परामर्श लेना।

उत्तर-

(क) सरकारी पत्र का
(ख) टिप्पण
(ग) प्रेस विज्ञप्ति
(घ) सूचना
(ङ) सरकारी आदेश
(च) सूचना
(छ) अनुस्मारक पत्र
(ज) अर्ध सरकारी पत्र।

प्रश्न 2. आप राजकीय प्रतिभा विकास विद्यालय में हिंदी के शिक्षक हैं और जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय से एम फिल करना चाहते हैं। विभाग से एम फिल करने की अनुमति प्राप्त करने के लिए पत्र लिखिए।

उत्तर-

दिनांक, 29 मार्च, 20..
सेवा में
प्राचार्य,
राजकीय प्रतिभा विकास विद्यालय,
नई दिल्ली।

विषय : जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से एम फिल करने हेतु अनुमति बारे।

महोदय,

आपसे अनुरोध यह है कि मैं आपके विद्यालय में हिंदी के शिक्षक पद पर कार्य करता हूँ। मैं इस पद पर एम ए हिंदी शैक्षणिक योग्यता के आधार पर चयनित किया गया था आज तक मैंने अपने कार्य को सत्यनिष्ठा और कर्त्त्तव्यपरायणता से निभाया है। मैं निरंतर अध्ययन करता रहता हूं। अब मैं अपनी शैक्षणिक योग्यता को आगे बढ़ाना चाहता हूँ। इसलिए मैं जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय से एम फिल करना चाहता हूं। महोदय मेरा आपसे निवेदन है कि आप मुझे इस विश्वविद्यालय से एम फिल करने की अनुमति देकर कृतार्थ करें। मैं आपका सदा आभारी पूर्ण विराम। रहूंगा।

सधन्यवाद।
भवदीय।
Ramesh Chand
रमेश चंद्र
हिंदी प्राध्यापक
राजकीय प्रतिभा विकास विद्यालय।

प्रश्न 3. विद्यालय में हुए पुरस्कार वितरण समारोह का कार्यवृत्त तैयार कीजिए।

उत्तर- दिनांक ……….. को हमारे राजकीय प्रतिभा विकास विद्यालय में पुरस्कार वितरण समारोह का आयोजन किया गया। माननीय शिक्षा मंत्री हरियाणा इस समारोह के मुख्य अतिथि थे। समारोह सुबह: 8.00 बजे प्रारंभ हुआ। मुख्य अतिथि महोदय ने इस समारोह का शुभारंभ किया। विद्यालय के प्राचार्य ने मुख्य अतिथि का स्वागत किया। सर्वप्रथम 8वीं कक्षा के बच्चों द्वारा स्वागत गीत प्रस्तुत किया गया इसके बाद 10वीं कक्षा की छात्राओं ने नृत्य प्रस्तुत किया। जिससे समारोह में उपस्थित दर्शकों का खूब मनोरंजन हुआ। इसके बाद मुख्य अथिति द्वारा विद्यालय के मेधावी विद्यार्थियों को पुरस्कार वितरित किए गए। विद्यालय का सर्वश्रेष्ठ मेधावी छात्र का पुरस्कार प्रिंस को दिया गया। अंत में विद्यालय के प्राचार्य ने समारोह में उपस्थित मुख्य अतिथि मेहमानों तथा दर्शकों का धन्यवाद किया और कुछ संबंध कहें।

प्रश्न 4. निम्नलिखित पत्र को ध्यानपूर्वक पढ़िए।

भारतीय रिज़र्व बैंक

नयी दिल्ली

कार्यपालक निदेशक

आर०बी०आई०/2006/136
फा०सं० 118/11/37.01/2005-06
6 अप्रैल, 2006
अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक,
सभी सार्वजनिक और निजी बैंक,
नयी दिल्ली।

विषय : सिक्कों की स्वीकृति और वितरण संबंधी।

महोदय/महोदया,

आप अपनी शाखाओं को तत्काल आदेश दे कि वे जनता के किसी भी सदस्य से बिना किसी प्रतिबंध के सभी मूल्य वर्गों के सिक्के स्वीकार करें। यदि कोई उपभोक्ता सिक्कों की मांग करता है तो उसे सभी मूल्य वर्गों के सिक्के भी उपलब्ध करवाने होंगे। यद्यपि 5, 10 और 20 पैसे मूल्य वर्गों के छोटे सिक्के बनाना बंद कर दिया गया है तो भी पहले जारी सिक्के जो अब भी प्रचलन में है वे वैध मुद्रा बने रहेंगे। कृपया इस की पावती भेजें तथा अपनी कार्यवाही से अवगत कराएं।

भवदीया,
(डॉ रश्मि सिंह)
कार्यपालक निदेशक

(1)

(क) पंजाब नेशनल बैंक दवारा इसकी पावती रिज़र्व बैंक को भेजिए।
(ख) इस पत्र की विषय-वस्तु के आधार पर रिज़र्व बैंक दवारा प्रेस विज्ञप्ति तैयार कीजिए।
(ग) महाप्रबंधक को दूसरे बैंकों को अनुस्मारक भेजना है, अतः इस अनुस्मारक को तैयार करने में उनकी मदद कीजिए।
(घ) पंजाब नेशनल बैंक ने अपनी सभी शाखाओं को कार्यालय आदेश भेजा। उपर्युक्त पत्र के आधार पर आप कार्यालय आदेश तैयार कीजिए।

(2)

(क) पंजाब नेशनल बैंक की भीकाजी कामा प्लेस और सफदरजंग एंक्लेव किस अकाउंट से अभी भी रिजर्व बैंक को शिकायतें मिल रही हैं। कि इन शाखाओं में सिक्कों को स्वीकार नहीं किया जाता, इसलिए कार्यपालक निदेशक को पंजाब नेशनल बैंक के अध्यक्ष को एक अर्ध-सरकारी पत्र लिखना है, जिसे आप तैयार कीजिए।
(ख) पंजाब नेशनल बैंक के महाप्रबंधक को जब यह पत्र मिलता है तब वह अपने अधिकारी से इसका जवाब मांगता है। इस विषय-वस्तु को ध्यान में रखते हुए सहायक और अधिकारी की टिप्पणी लिखिए।

(संकेत-सहायक बैंक की शाखा में पिछले छह महीनों का ब्योरा देगा कि कितने सिक्के उन्होंने स्वीकार किए और कितने सिक्के जारी किए। अधिकारी अपनी टिप्पणी में इसे निराधार बताएगा।)

उत्तर –

(क)

पंजाब नेशनल बैंक

मुख्य शाखा, नई दिल्ली।

अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक
पंजाब नेशनल बैंक / 2006 / 150
फा० सं० 100/12/30.5/2005-06

8 अप्रैल, 2006
कार्यपालक निदेशक,
भारतीय रिज़र्व बैंक,
नई दिल्ली।

विषय : पावती पत्र।

महोदय/महोदया,

आप द्वारा प्रेषित पत्र क्रमांक 118/11/37.01/2005-06 हमारे कार्यालय में 7 अप्रैल, 2006 को पहुँच चुका है। हम पंजाब नेशनल बैंक की ओर से आपका हार्दिक धन्यवाद करते हैं कि आपने हमें यह सूचना भेजी।

भवदीय
Rajesh Yadav
(राजेश यादव)
प्रबंधक पंजाब नेशनल बैंक
नई दिल्ली

(ख)

भारतीय रिज़र्व बैंक, नई दिल्ली

सिक्के की स्वीकृति और वितरण संबंधी सूचना

भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा सभी बैंकों को यह निर्देश जारी किए गए हैं कि बैंक किसी भी सदस्य से बिना किसी प्रतिबंध के सभी मूल्यवर्गों के सिक्के स्वीकार करें। उपभोक्ता के सिक्कों की मांग करने पर उसे सभी मूल्यवर्गों के सिक्के उपलब्ध करवाए जाएं। बैंक ने 5, 10 और 20 पैसे के मूल्यवर्गों के सिक्के बनाना बंद कर दिया गया है लेकिन पहले से मौजूद ये सिक्के वैध होंगे।

(ग)

अनुस्मारक

भारतीय रिजर्व बैंक

नई दिल्ली

फा० संख्या : नई दिल्ली 118/11/37.01/2005-06

नई दिल्ली 14 अप्रैल, 2006

सेवा में
प्रबंधक महोदय,
सभी सार्वजनिक और निजी बैंक,
नई दिल्ली।

विषय : सिक्के की स्वीकृति एवं वितरण संबंधी निर्देश।

महोदय,

कृपया उपर्युक्त विषय पर इस कार्यालय द्वारा भेजे गए 118/11/37.01/2005-06 पत्र संख्या का स्मरण करें जो 6 अप्रैल, 2006 को भेजा गया था। निवेदन यह है कि सिक्के की स्वीकृति और वितरण संबंधी कार्यालय के निर्देशों पर विचार कर शीघ्र प्रभाव से स्वीकृति जारी की जाए।

भवदीय,
Ashok Rawat
निदेशक,
भारतीय रिज़र्व बैंक,
नई दिल्ली।

(घ)

पंजाब नेशनल बैंक

मुख्य शाखा, नई दिल्ली।

निदेशक

पंजाब नेशनल बैंक
फा० सं० 100/5/15/6/2005-06
10 अप्रैल, 2006
प्रबंधक महोदय,
सभी संबंधित शाखाएं,
पंजाब नेशनल बैंक,
नई दिल्ली।

विषय : सिक्के की स्वीकृति और वितरण संबंधी निर्देश।

महोदय/महोदया,

पंजाब नेशनल बैंक की संबंधित शाखाओं को आदेश जारी किया जाता है कि अपनी-अपनी सभी शाखा में सिक्के की स्वीकृति एवं वितरण संबंधी नई नियमावली का पालन किया जाए। उपभोक्ताओं से बिना किसी प्रतिबंध के सभी मूल्यवर्गों के सिक्के स्वीकार किए जाएं तथा उनकी माँग पर उन्हें सभी मूल्य वर्गों के सिक्के उपलब्ध करवाए जाएं। 5,10 और 20 पैसे मूल्यवर्गों के छोटे सिक्के भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा वैध कर दिए गए हैं लेकिन पहले जारी सिक्के जो अभी तक प्रचलन में हैं। वे वैध मुद्रा बने रहेंगे। भारतीय रिज़र्व बैंक ने नए सिक्के बनाना बंद कर दिया है। कृपया निर्देशों को स्वीकृति कर शाखा में तुरंत लागू किए जाएं।

भवदीय
kamal sharma
कमल शर्मा।
(निदेशक)
पंजाब नेशनल बैंक,
नई दिल्ली।

2. ( क)

भारतीय रिजर्व बैंक

नई दिल्ली

फा० संख्या 80/10/2006/101

रोहन मालिक
कार्यपालक निर्देशक
प्रिय रजत कुमार
निदेशक, पंजाब नेशनल बैंक,
नई दिल्ली।

कृपया 6 अप्रैल, 2006 और 14 अप्रैल, 2006 को भेजे गए पत्रों का स्मरण करें, जो आपको अपनी शाखा में सिक्कों की स्वीकृति और वितरण सूचना के लिए थे। आपसे अनुरोध है कि आपकी शाखा अशोक विहार और आनन्द विहार से अभी तक भी उपभोक्ताओं की निरंतर शिकायतें आ रही है। मैं आपसे पुनः अनुरोध करता हूं कि आप पहले भेजे गए पत्र में निर्देशित नियमों का उचित पालन करें।

सधन्यवाद।
आपका,
Rohan Malik
रोहन मालिक।

(ख)

यह टिप्पणी भारतीय रिज़र्व बैंक के निर्देशक द्वारा भेजे गए पत्र क्रमांक 118/37-07/2005-06 से संबंधित है जिसमें सिक्कों के स्वीकति और वितरण संबंधी निर्देशों के पालन करने का आग्रह किया गया है। यह भी विचारणीय है कि हमारी शाखा इस पत्र के अनुसार अपनी शाखा में निर्देशों को शीघ्र स्वीकृत कर उनकी पालना की है। पिछले छ: महीनों में हमारी शाखा ने 5, 10 और 20 मूल्य वर्गों के लगभग 90,000 सिक्के स्वीकार किए हैं। इसके साथ ही 3 लाख सिक्कों के लगभग जारी किए गए हैं।

हमारी शाखा ने इन निर्देशों का पालन तो किया है, लेकिन ये शिकायतें बिल्कुल निराधार हैं क्योंकि इससे उपभोक्ताओं तथा अधिकारियों को अनेक परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

विचारार्थ प्रस्तुत

Rajat Kumar

रजत कुमार

सहायक

प्रमुख अधिकारी

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!