बिलस्य वाणी न कदापि मे श्रुता Class 8 संस्कृत Chapter 2 शब्दार्थ – रुचिरा

NCERT Solution of Class 8 Sanskrit रुचिरा बिलस्य वाणी न कदापि मे श्रुता शब्दार्थ  for Various Board Students such as CBSE, HBSE, Mp Board,  Up Board, RBSE and Some other state Boards. Class 8 Sanskrit all Chapters NCERT Solution with शब्दार्थ, व्याख्या, Translation in Hindi and English, अभ्यास के प्रश्न उत्तर and important Question answer ncert solution.

Also Read:Class 8 Sanskrit रुचिरा NCERT Solution

NCERT Solution of Class 8th Sanskrit Ruchira /  रुचिरा  Chapter 2 बिलस्य वाणी न कदापि मे श्रुता / bilasya vani na kadapi me shruta Word meaning / शब्दार्थ Solution.

बिलस्य वाणी न कदापि मे श्रुता Class 8 Sanskrit Chapter 2 शब्दार्थ

  1. कस्मिंश्चित् – किसी।
  2. वने – वन में।
  3. खरनखरः- खरनखर।
  4. सिंह : – शेर।
  5. प्रतिवसति स्म – रहता था।
  6. सः – वह।
  7. कदाचित् – किसी समय।
  8. इतस्ततः- इधर-उधर।
  9. परिभ्रमन्- घुमना।
  10. क्षुधार्तः – भुख से व्याकुल।
  11. न – नही।
  12. किञ्चिदपि – कही पर।
  13. आहारं – भोजन।
  14. प्राप्तवान् – मिला।
  15. तत: – तब।
  16. सूर्यास्तसमये – शाम को।
  17. एकां – एक।
  18. महतीं – बड़ी।
  19. गुहां – गुफा।
  20. दृष्ट्वा – देखकर।
  21. अचिन्तयत् – सोचना।
  22. नूनम् – अवश्य ही।
  23. एतस्यां – इस।
  24. गुहायां – गुफा में।
  25. रात्रौ – रात को।
  26. कोऽपि – कोई।
  27. जीवः – जानवर।
  28. आगच्छति – आता है।
  29. अतः – इसलिए।
  30. अत्रैव – यही।
  31. निगूढो भूत्वा – छिपकर।
  32. तिष्ठामि – बैठता हूं।
  33. एतस्मिन् – इसी।
  34. अन्तरे – बिच में।
  35. गुहाया: – गुफा का।
  36. स्वामी – मालिक।
  37. दधिपुच्छ : – दधिपुच्छ।
  38. नामकः – नामक।
  39. शृगालः – गीदड़।
  40. समागच्छत् – आया।
  41. स च – और उसने।
  42. यावत् – जहां तक।
  43. पश्यति – देखा।
  44. तावत् – वहां तक।
  45. सिंहपदपद्धति: – शेर के पैरों के निशान।
  46. गुहायां – गुफा।
  47. प्रविष्टा – प्रवेश किए हुए।
  48. दृश्यते – देखें।
  49. बहिरागता – बाहर आते हुए ।
  50. अचिन्तयत् – सोचना।
  51. अहो – अरे।
  52. विनष्टोऽस्मि – मैं मर गया।
  53. नूनम् – अवश्य ही।
  54. अस्मिन् – इस।
  55. बिले – बिल में / गुफा में।
  56. सिंह: – शेर।
  57. अस्तीति – है।
  58. तर्कयामि – सोचता हूं।
  59. तत् – तो।
  60. किं – क्या।
  61. करवाणि – करू।
  62. एवं – इस प्रकार।
  63. विचिन्त्य – सोच कर।
  64. दूरस्थः- दुर से ही।
  65. रवं – आवाज।
  66. कर्तुमारब्धः – करना आरंभ किया।
  67. भो बिल – हे गुफा।
  68. किं – क्या।
  69. स्मरसि – याद।
  70. यन्मया – कि मेरे द्वारा।
  71. त्वया – तुम्हारे।
  72. सह – साथ।
  73. समयः – समझोता।
  74. कृतोऽस्ति – किया है।
  75. यत् – कि।
  76. यदाहं – जब मैं।
  77. बाह्यतः – बाहर से।
  78. प्रत्यागमिष्यामि – वापस आऊंगा।
  79. तदा – तब।
  80. त्वं – तुम।
  81. माम् – मुझे।
  82. आकारयिष्यसि – पुकारोगी।
  83. यदि – अगर।
  84. मां – मुझे।
  85. आह्वयसि – पुकारोगी।
  86. तर्हि – तो।
  87. अहं – मैं।
  88. द्वितीयं – दूसरे।
  89. बिलं – गुफा में।
  90. यास्यामि- चला जाऊंगा।
  91. अथ – अब।
  92. एतच्छ्रुत्वा – यह सुनकर।
  93. सिंह: – शेर।
  94. अचिन्तयत् – सोचा।
  95. नूनमेषा – निश्चित रूप से यह।
  96. गुहा – गुफा।
  97. स्वामिनः – मालिक को।
  98. सदा – हमेशा।
  99. समाह्वानं – बुलाना।
  100. करोति – करती है।
  101. परंतु – लेकिन।
  102. मद्भयात् – मेरे डर से।
  103. किञ्चित् – कुछ भी।
  104. वदति – बोलती है।
  105. अथवा – या।
  106. साध्विदम् – यह उचित।
  107. उच्यते – कहा गया है।
  108. भयसन्त्रस्तमनसां – डरे हुए मन वाले (लोगो) की।
  109. हस्तपादादिकाः- हाथ पैर से संबंधित।
  110. क्रियाः- क्रिया।
  111. प्रवर्तन्ते – काम करना।
  112. वाणी – आवाज।
  113. वेपथुश्चाधिको – और अधिक कांपना।
  114. भवेत् – होता है।
  115. तदहम् – तब तो।
  116. अस्य – इसका।
  117. आह्वानं – बुलाना / आह्वान करना।
  118. करोमि – करता हूं।
  119. एवं – इस प्रकार।
  120. स: – वह।
  121. बिले – गुफा।
  122. प्रविश्य – प्रवेश करके।
  123. मे – मेरा।
  124. भोज्यं – भोजन।
  125. भविष्यति – बनेगा।
  126. इत्थं – इस प्रकार।
  127. विचार्य – विचार करके।
  128. सहसा – अचानक।
  129. शृगालस्य गीदड़ को।
  130. आह्वानमकरोत् – पुकारा।
  131. सिंहस्य – शेर की।
  132. उच्चगर्जन – ऊंची दहाड़।
  133. प्रतिध्वनिना – गूंज से।
  134. सा – सारा।
  135. उच्चैः – जोर से।
  136. शृगालम् – गीदड़ का।
  137. आह्वयत् – पुकारती है।
  138. अनेन – बहुत सारे।
  139. अन्येऽपि – दूसरे भी।
  140. पशवः – जानवर।
  141. भयभीताः – डर गए।
  142. अभवन् – हुए।
  143. शृगालोऽपि – गीदड़ भी।
  144. ततः – वहां से।
  145. दूरं – दूर।
  146. पलायमानः – भागता हुआ।
  147. इममपठत् – यह पढ़ा।
  148. अनागतं – आने वाले को ( दुख को )।
  149. यः – जो।
  150. कुरुते – करते हैं।
  151. स – वह।
  152. शोभते – सुखी रहता है।
  153. शोच्यते – दुखी।
  154. यो – जो।
  155. करोत्यनागतम् – करता है।
  156. वनेऽत्र – यहां वन में।
  157. संस्थस्य – रहते हुए।
  158. समागता – आ गया।
  159. जरा – बुढापा।
  160. बिलस्य – गुफा की।
  161. वाणी – आवाज।
  162. कदापि – कभी भी।
  163. श्रुता – सुनी।

Leave a Comment

error: Content is protected !!